जगत में सर्वश्रेष्ठ व्यक्तित्व यदि किसी के पास है तो वह मनुष्य है : आर्यिका रत्न 105 श्री सृष्टि भूषण माता जी

0
259

भीलवाडा : बुधवार, 07-06-2017 : आज श्री सुपार्श्वनाथ दिगंबर जैन मन्दिर, हाउसिंग बोर्ड में परम पूज्य वात्सल्य मूर्ति, जिनधर्म प्रभाविका आर्यिका रत्न 105 श्री सृष्टि भूषण माता जी ने प्रवचन देते हुए कहा कि :-
जगत में सर्वश्रेष्ठ व्यक्तित्व यदि किसी के पास है तो वह मनुष्य है। वह ना केवल स्वयं के जीवन को आंनद और उल्लास के कैलाश पर पहुँचाने में समर्थ है अपितु समस्त प्रकृति, समस्त जीव – जंतु और समस्त वातावरण को भी आंनद देने में समर्थ है ।

इंसान की उपलब्धियाँ आश्चर्यचकित करने वाली हैं। अपने प्रचुर आत्मबल के बल पर उसने बहुत सारी समस्याओं को सुलझाया है। लेकिन हैरानी की बात यह है दुनिया की बड़ी से बड़ी समस्या को सुलझाने की समझ और सामर्थ्य रखने वाला मनुष्य पिछले कुछ समय से खुद अकारण की ऐसी गुत्थियों में उलझा पड़ा है, जो सुलझने में नहीं आ रहीं ।

समस्याएं वास्तव में इतनी बड़ी हैं कि उनका हल संभव नहीं है या मनुष्य ने समस्याओं के आगे समर्पण कर दिया है। अध्यात्म व्यक्ति के आत्मबल को बढ़ाता है और निराशा को समाप्त करता है। ना भय में रहो, ना निराशा में और ना अविश्वास में। अभी बहुत सृजन आपके द्वारा होना है ।

संघस्थ बा. ब. नेहा दीदी बताया इससे पूर्व पूज्य गुरु माँ सृष्टि भूषण माता जी ससंघ का प्रातः 5.30 बजे श्री पार्श्वनाथ दिगंबर जैन मन्दिर शास्त्री नगर से श्री सुपार्श्वनाथ दिगंबर जैन मन्दिर,हाउसिंगबोर्ड के लिए मंगल विहार हुआ , जहाँ महिला मण्डल ने माता जी के पाद-प्रक्षालन व आरती कर अगवानी की, उसके बाद प्रातः 8.30 बजे माता जी के दैनिक प्रवचन हुए ।

दीप प्रज्ज्वलन अशोक जैन व राजेन्द्र बाकलीवाल ने किया,मंगलाचरण पदम चन्द जी काला ने किया ।

LEAVE A REPLY